Diwali Short Messages and Essay in Hindi Language 2016

Diwali Short Messages and Essay in Hindi Language 2016

Diwali is such an important festival that schools would even organize for an essay writing competition on this topic. Well, according to the history it is known that Diwali is celebrated to mark the return of Lord Rama to his Kingdom Ayodhya after 14 years of exile. Diwali is known for festival of lights. Diwali crackers are the must for this festival. Besides all this, many would be sending diwali message, diwali sms to their friends and family members to wish them on this special occasion. For this purpose, they would be surfing the web for collections of stuff like diwali short essay in hindi, short essay on diwali in hindi language, diwali msg in hindi, happy diwali msg in hindi, diwali msg in hindi font etc.

You may like:

Diwali Crackers Animated Flash Images Vectors Names 2016

If you are looking for such stuff. Hope your search would end here. As here, we have shared all such cool collection which you can download and use for free.

Diwali Short Essay in Hindi

  • दीपावली, भारत में हिन्दुओं द्वारा मनाया जाने वाला सबसे बड़ा त्योहार है। दीपों का खास पर्व होने के कारण इसे दीपावली या दिवाली नाम दिया गया। दीपावली का मतलब होता है, दीपों की अवली यानि पंक्ति। इस प्रकार दीपों की पंक्तियों से सुसज्ज‍ित इस त्योहार को दीपावली कहा जाता है। कार्तिक माह की अमावस्या को मनाया जाने वाला यह महापर्व, अंधेरी रात को असंख्य दीपों की रौशनी से प्रकाशमय कर देता है।  दीप जलाने की प्रथा के पीछे अलग-अलग कारण या कहानियां हैं। हिंदू मान्यताओं में राम भक्तों के अनुसार कार्तिक अमावस्या को भगवान श्री रामचंद्रजी चौदह वर्ष का वनवास काटकर तथा असुरी वृत्तियों के प्रतीक रावणादि का संहार करके अयोध्या लौटे थे। तब अयोध्यावासियों ने राम के राज्यारोहण पर दीपमालाएं जलाकर महोत्सव मनाया था। इसीलिए दीपावली हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है। कृष्ण भक्तिधारा के लोगों का मत है कि इस दिन भगवान श्री कृष्ण ने अत्याचारी राजा नरकासुर का वध किया था। इस नृशंस राक्षस के वध से जनता में अपार हर्ष फैल गया और प्रसन्नता से भरे लोगों ने घी के दीए जलाए। एक पौराणिक कथा के अनुसार विंष्णु ने नरसिंह रुप धारणकर हिरण्यकश्यप का वध किया था तथा इसी दिन समुद्रमंथन के पश्चात लक्ष्मी व धन्वंतरि प्रकट हुए।
  • भारत एक ऐसा देश है जिसको त्योहारों की भूमि कहा जाता है। इन्हीं पर्वों मे से एक खास पर्व है दीपावली जो दशहरा के 20 दिन बाद अक्टूबर या नवंबर के महीने में आता है। इसे भगवान राम के 14 साल का वनवास काटकर अपने राज्य में लौटेने की खुशी में मनाया जाता है। अपनी खुशी जाहिर करने के लिये अयोध्यावासी इस दिन राज्य को रोशनी से नहला देते है साथ ही पटाखों की गूंज में सारा राज्य झूम उठता है।

    दिवाली को रोशनी का उत्सव या लड़ीयों की रोशनी के रुप में भी जाना जाता है जोकि घर में लक्ष्मी के आने का संकेत है साथ ही बुराई पर अच्छाई की जीत के लिये मनाया जाता है। असुरों के राजा रावण को मारकर प्रभु श्रीराम ने धरती को बुराई से बचाया था। ऐसा माना जाता है कि इस दिन अपने घर, दुकान, और कार्यालय आदि में साफ-सफाई रखने से उस स्थान पर लक्ष्मी का प्रवेश होता है। उस दिन घरों को दियों से सजाना और पटाखे फोड़ने का भी रिवाज है।

    ऐसी मान्यता है कि इस दिन नई चीजों को खरीदने से घर में लक्ष्मी माता आती है। इस दिन सभी लोग खास तौर से बच्चे उपहार, पटाखे, मिठाईयां और नये कपड़े बाजार से खरीदते है। शाम के समय, सभी अपने घर में लक्ष्मी अराधना करने के बाद घरों को रोशनी से सजाते है। पूजा संपन्न होने पर सभी एक दूसरे को प्रसाद और उपहार बाँटते है साथ ही ईश्वर से जीवन में खुशियों की कामना करते है। अंत में पटाखों और विभिन्न खेलों से सभी दिवाली की मस्ती में डूब जाते है।

  • ‘दीवाली’ हिन्दुओं का प्रसिद्ध त्यौहार है। दीवाली को ‘दीपावली’ भी कहते हैं। ‘दीपावली’ का अर्थ होता है – ‘दीपों की माला या कड़ी’।

    दीवाली प्रकाश का त्यौहार है। यह हिन्दू कैलेंडर के अनुसार कार्तिक माह की अमावस्या को मनाई जाती है। दीवाली में लगभग सभी घर एवं रास्ते दीपक एवं प्रकाश से रोशन किये जाते हैं।

    दीवाली का त्यौहार मनाने का प्रमुख कारण है कि इस दिन भगवान् राम, अपनी पत्नी सीता एवं अपने भाई लक्ष्मण के साथ 14 वर्ष का वनवास बिताकर अयोध्या लौटे थे। उनके स्वागत में अयोध्यावासियों ने दिये जलाकर प्रकाशोत्सव मनाया था। इसी कारण इसे ‘प्रकाश के त्यौहार’ के रूप में मनाते हैं।

    दीवाली के दिन सभी लोग खुशी मनाते हैं एवं एक-दूसरे को बधाईयाँ देते हैं। बच्चे खिलौने एवं पटाखे खरीदते हैं। दुकानों एवं मकानों की सफाई की जाती है एवं रंग पुताई इत्यादि की जाती है। रात्रि में लोग धन की देवी ‘लक्ष्मी’ की पूजा करते हैं।

  • दीपावली या दीवाली रोशनी का त्योहार है
    दीपावली का अर्थ है दीपों की पंक्ति।
    दीपावली दीपों का त्योहार है।
    इसे दीवाली या दीपावली भी कहते हैं।
    इसे सिख, बौद्ध तथा जैन धर्म के लोग भी मनाते हैं।
    दीपावली के दिन अयोध्या के राजा श्री रामचंद्र अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे।
    श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीए जलाए थे।
    तब से आज तक प्रति वर्ष यह पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं।
    यह पर्व अक्टूबर या नवंबर महीने में पड़ता है।
    दीवाली अँधेरे से रोशनी में जाने का प्रतीक है।
    कई सप्ताह पूर्व ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती है।
    दीपावली से पहले ही घर-मोहल्ले, बाज़ार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं।
    दीवाली भारत में एक सरकारी छुट्टी है
    दिवाली भारत के आलावा नेपाल , श्रीलंका , म्यांमार , मारीशस , गुयाना , त्रिनिदाद और टोबैगो , सूरीनाम , मलेशिया , सिंगापुर और फिजी में भी मनाया जाता है .
    हिंदुओं के लिए दीवाली एक महत्वपूर्ण त्यौहार है

Short Essay on Diwali in Hindi Language

  • दीवाली या दीपावली अर्थात “रोशनी का त्योहार” शरद ऋतु (उत्तरी गोलार्द्ध) में हर वर्ष मनाया जाने वाला एक प्राचीन हिंदू त्योहार है। दीवाली भारत के सबसे बड़े और प्रतिभाशाली त्योहारों में से एक है। यह त्योहार आध्यात्मिक रूप से अंधकार पर प्रकाश की विजय को दर्शाता है।

    भारतवर्ष में मनाए जाने वाले सभी त्यौहारों में दीपावली का सामाजिक और धार्मिक दोनों दृष्टि से अत्यधिक महत्त्व है। इसे दीपोत्सव भी कहते हैं। ‘तमसो मा ज्योतिर्गमय’ अर्थात् ‘अंधेरे से ज्योति अर्थात प्रकाश की ओर जाइए’ यह उपनिषदों की आज्ञा है। इसे सिख, बौद्ध तथा जैन धर्म के लोग भी मनाते हैं। जैन धर्म के लोग इसे महावीर के मोक्ष दिवस के रूप में मनाते हैं तथा सिख समुदाय इसे बंदी छोड़ दिवस (en:Bandi Chhor Divas) के रूप में मनाता है।

    माना जाता है कि दीपावली के दिन अयोध्या के राजा श्री रामचंद्र अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे। अयोध्यावासियों का ह्रदय अपने परम प्रिय राजा के आगमन से उल्लसित था। श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीए जलाए। कार्तिक मास की सघन काली अमावस्या की वह रात्रि दीयों की रोशनी से जगमगा उठी। तब से आज तक भारतीय प्रति वर्ष यह प्रकाश-पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं। यह पर्व अधिकतर ग्रिगेरियन कैलन्डर के अनुसार अक्टूबर या नवंबर महीने में पड़ता है। दीपावली दीपों का त्योहार है। भारतीयों का विश्वास है कि सत्य की सदा जीत होती है झूठ का नाश होता है। दीवाली यही चरितार्थ करती है- असतो माऽ सद्गमय, तमसो माऽ ज्योतिर्गमय। दीपावली स्वच्छता व प्रकाश का पर्व है। कई सप्ताह पूर्व ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती हैं। लोग अपने घरों, दुकानों आदि की सफाई का कार्य आरंभ कर देते हैं। घरों में मरम्मत, रंग-रोगन, सफ़ेदी आदि का कार्य होने लगता है। लोग दुकानों को भी साफ़ सुथरा कर सजाते हैं। बाज़ारों में गलियों को भी सुनहरी झंडियों से सजाया जाता है। दीपावली से पहले ही घर-मोहल्ले, बाज़ार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं।

    दीवाली नेपाल, भारत, श्रीलंका, म्यांमार, मारीशस, गुयाना, त्रिनिदाद और टोबैगो, सूरीनाम, मलेशिया, सिंगापुर, फिजी, पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया की बाहरी सीमा पर क्रिसमस द्वीप पर एक सरकारी अवकाश है।

  • मित्रों, कुछ ही दिनों बाद हम भारत के सबसे महत्त्वपूर्ण त्योहारों में से एक “दीपावली” मनाएंगे। ईश्वर की कृपा से आप सबके लिए यह पर्व मंगलमय हो!

    दीपावली मनाते समय हमारा हृदय निर्मल, मन प्रसन्न, चित्त शांत, शरीर स्वस्थ एवं अहंकार…‘शून्य’ हो –ऐसी ही अनुनय विनय है भगवान् श्री राम के चरण-कमलों में | इस पावन-पर्व को मनाने के पीछे एक अत्यंत गौरवमय इतिहास है |कहते हैं कि त्रेता युग में अयोध्या के राजा; राजा दशरथ के ज्येष्ठ पुत्र जिन्हें संसार “मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम ” के नाम से जानता है,जब पिता की वचन-पूर्ति के लिए चौदह वर्ष का वनवास पूरा करके अपनी पत्नी सीता जी एवं अनुज लक्ष्मण के साथ अयोध्या लौटे तो नगर वासियों ने उनके स्वागत के लिए, अपनी खुशी प्रदर्शित करने के लिए तथा अमावस्या की रात्रि को भी उजाले से भरने के लिए घी के दीपक जलाये थे |इसके अतिरिक्त, वनवास के मध्य ही लंका का राजा रावण श्री राम की भार्या सीता जी का हरण करके उन्हें लंका ले गया था और तब हनुमान, अंगद, सुग्रीव,जामवंत एवं विशाल वानर सेना के सहयोग से समुद्र पर सेतु-निर्माण कर ,लंका पर आक्रमण करके उन्होंने रावण जैसे आततायी का वध कर धर्म की स्थापना की थी तथा सम्पूर्ण मानव जाति को यह संदेश दिया कि “आतंक चाहे कितना भी सिर उठाने की कोशिश करे तो भी उसका अंत निश्चित है |” और “बुराई पर अच्छाई सदा भारी हुआ करती है |”इस स्मृति में हर वर्ष दशहरा मनाया जाता है जो “विजय दशमी” के नाम से भी विख्यात है और दशहरे के लगभग बीस दिन बाद ही दीपावली आती है |

Diwali Msg in Hindi

  • Jagmag Thali Sajao
    Mangal Deepo ko Jalao
    Apne Gharo aur Dilo main Asha ki Kiran Jagao
    Khushali aur Samridhi se bhara ho apka jeevan
    Isi Kamna ke Saath Shubh Deepawali.
  • Deepak ka prakash har pal aapke Jivan me ek nayi roshni de,
    bas yahi shubhkamna hai hamari aapke liye Diwali ke is pawan avsar par. !! Happy Diwali !!
  • May Goddess Lakshmi Step Into
    Your Home And Bring Peace,
    Contentment, Happiness, Good
    Health And Wealth In Your
    Life Very Happy Diwali To You!
  • Sri Ram Ji Aapke Ghar Sukh Ki Barsat
    Karen, Dukhon Ka Naas Karen, Prem
    Ki Phuljhari Wa Anar Aapke Ghar Ko
    Roshan Kare, Roshni Ke Diye Aapki
    Zindagi Me Khusiya Layen Happy Diwali.
  • चारो और दिया और मोमबत्ती जलाओ,
    अपने घर को खूबसूरती से सजाओ,
    आज की रात फटाके जलाओ,
    ये दिवाली को एक अलग अंदाज से मनाओ.
    हैप्पी दिवाली.
  • diwali ke subh apsar per
    Mere sab des basiyo ko subh kamnaye.

    Ish tyohar per apko hazaro khusi hasil ho
    Asatya per hamesha satya ki jeet ho
    Chahe aap kahin bhi rahe
    Hamesha apno ka sath ho.

Happy Diwali Msg in Hindi

  • Happy Diwali SMS in Advance
    Jagmag Jagmag jalte ye sunder deep,
    Charon taraf roshni hi roshi ho,
    Meri hai duha yahee,
    Honto par aapki hardam hansi hee hansi ho…
    Happy Diwali 2016
  • Muskarte hanste deep tum jalana,
    Jivan main nai khushiyon ko lana,
    Dukh dard apne bhool kar,
    Sabko gale lagna, sabko gale lagna…
    Happy Diwali 2016
  • इस दिवाली में यही
    कामना है कि
    सफलता आपके कदम चूमे
    और खुशी आपके आसपास हो।
    माता लक्ष्मी की कृपा आप पर बनी रहे।
  • Kuber ke khazane, Lakshmi ma ki kripa aur Ganesh ji ke aashirvad se
    Mangalmay ho aapka aane wala saal
    Prassanta aur ulaas se.
    Deepavali ki hardik shubhkamnayen!
  • Safalta Kadam Chumti rahe,
    Khushi Aaspas ghumti rahe,
    Yash Itna faile ki KASTURI Sharma Jaye,
    Laxmi ki kripa itni ho ki BALAJI bhi dekhte rah jaye,

Diwali Msg in Hindi Font

  • दीपक का पर्काश हर पल आपके जीवन मैं एक नयी रौशनी दे,
    बस यही शुभकामना है हमारी आपके लिए दीवाली के इस पवन अवसर पर ..
    ** शुभ दीवाली **
  • दीवाली के इस मंगल अवसर पर ,आप सभी की मनोकामना पूरी हों,

    खुशियाँ आपके कदम चूमे ,इसी कामना के साथ आप सभी को दिवाली की ढेरों बधाई .

  • दीपक का पर्काश हर पल आपके जीवन मैं एक नयी रौशनी दे,

    बस यही शुभकामना है हमारी आपके लिए दीवाली के इस पवन अवसर पर ..

    ** शुभ दीवाली **

  • लक्ष्मी आएगी इतनी की सब जगह नाम होगा,दिन रात व्यपार बड़े इतना अधिक काम होगा,

    घर परिवार समाज मैं बनोगे सरताज,ये ही कामना है हमारी आप के लिए ,

    *दीवाली की ढेरो शुभकामनाएं*

  • आई आई दिवाली आई,

    साथ माँ कितनी खुशियाँ लायी,

    धूम मचाओ मौज मनाओ,

    आप सभी को दिवाली की बधाई.

    शुभ दीवाली

Diwali Short Messages Hindi

diwali short messages hindi

diwali short messages hindi

diwali short messages hindi

diwali short messages hindi

diwali short messages hindi

diwali short messages hindi

diwali short messages hindi

diwali short messages hindi

diwali short messages hindi

diwali short messages hindi

Hope you like our collection. If yes, feel free to share them on social media with your friends and followers

Source: wikipedia

Do check:

Happy Diwali Text Messages and SMS for friends in English 2016

Searches related to diwali short messages hindi

  • diwali short essay in hindi
  • short essay on diwali in hindi language
  • short paragraph on diwali in hindi
  • essay on diwali in hindi wikipedia
  • diwali msg in hindi
  • happy diwali msg in hindi
  • diwali msg in hindi font
  • short essay on diwali in english
Happy Diwali 2016 Greetings Wishes Images Sms Wallpapers Quotes Messages Frontier Theme